कश्मीर में लगातार 103वें दिन बंद, जनजीवन प्रभावित

श्रीनगर| अलगाववादियों के आह्वान पर कश्मीर घाटी में बंद से लगातार 103वें दिन जनजीवन पंगू बना रहा। हालांकि प्रशासन ने बुधवार को कहीं भी कोई कर्फ्यू या प्रतिबंध नहीं लगाया। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने यहां कहा, “आज (बुधवार) कहीं भी कोई कर्फ्यू या प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। पूरी घाटी में कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं। घाटी में मुख्य बाजार, सार्वजनिक परिवहन और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान लगातार 103वें दिन बंद रहे।

%e0%a4%96%e0%a5%8b%e0%a5%87%e0%a4%aa%e0%a4%b8%e0%a4%97%e0%a5%80

शैक्षिणिक संस्थानों के पिछले 103 दिनों से बंद रहने से छात्र बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। वे गत तीन से ज्यादा महीनों से स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय नहीं गए हैं।जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और राज्य के शिक्षा मंत्री नईम अख्तर ने कहा है कि 10वीं और 12वीं के लिए बोर्ड परीक्षाएं नवम्बर में होंगी।हालांकि, मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के विद्यालय शिक्षा बोर्ड को प्रश्न पत्र बनाते समय छात्रों को राहत देने के लिए के लिए कहा गया है।

उन्होंने बोर्ड से यह सुनिश्चित करने को कहा कि परीक्षार्थियों से केवल इस साल जून के अंत तक पढ़ाए गए पाठ्यक्रम के भाग से संबंधित प्रश्न पूछे जाएं।छात्र नवम्बर में परीक्षा के आयोजन का विरोध कर रहे हैं और इसे अगले साल मार्च तक स्थगित करना कराना चाहते हैं।घाटी में यह तेजी से महसूस किया जाने लगा है कि सरकार और अलगाववादी, दोनों शिक्षा के नाम पर राजनीति बंद कर दें और छात्रों के भविष्य सुरक्षित करने के लिए सभी प्रयास किए जाएं।