‘दलाई लामा अरुणाचल प्रदेश का दौरा करने के लिए स्वतंत्र’

नई दिल्ली| दलाई लामा के अरुणाचल प्रदेश के प्रस्तावित दौरे पर चीन की आपत्ति की आशंका के बीच भारत ने कहा कि तिब्बत के आध्यात्मिक नेता भारत के सम्मानित अतिथि हैं और वह देश के किसी भी हिस्से की यात्रा करने के लिए स्वतंत्र हैं। संवाददाताओं के सवालों का जवाब देते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि दलाई लामा पहले भी सीमाई राज्य का दौरा कर चुके हैं और राज्य का दौरा फिर करते हैं तो इसमें कुछ भी असामान्य नहीं है।

DaLAI LAMA

स्वरूप ने कहा कि दलाई लामा परम पूजनीय आध्यात्मिक नेता और भारत के एक सम्मानित अतिथि हैं। वह देश के किसी भी हिस्से की यात्रा के लिए पूरी तरह स्वतंत्र हैं। यह एक सच्चाई है कि अरुणाचल प्रदेश के बौद्धों के बीच उनके अनुयायियों की बड़ी संख्या है जो उनका आशीर्वाद लेना पसंद करते हैं। वह राज्य का पहले भी दौरा कर चुके हैं और यदि वह फिर वहां जाते हैं तो हमलोग उसमें कुछ भी असामान्य नहीं देख रहे हैं।

दलाई लामा को अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने अगले वर्ष के शुरू में आने के लिए आमंत्रित किया है। उस दौरान उम्मीद है कि वह तवांग, ईटानगर और राज्य के कुछ अन्य हिस्सों का दौरा करेंगे।भारत इससे पहले अरुणाचल प्रदेश में होने वाले वार्षिक तवांग महोत्सव में अमेरिकी राजदूत रिचर्ड वर्मा के दौरे को लेकर चीन के विरोध को इसी हफ्ते खारिज कर चुका है।चीन ने कहा कि वर्मा की तरह के दौरों से भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को और जटिल बनाएगा और इस क्षेत्र में शांति को नुकसान पहुंचाएगा।स्वरूप ने कहा कि वर्मा के दौरे में कुछ भी असामान्य नहीं था। उन्होंने एक ऐसे राज्य का दौरा किया है जो उस देश का अभिन्न हिस्सा है।