‘तनाव कम करने के लिए भारत-पाकिस्तान में प्रत्यक्ष वार्ता हो’

वॉशिंगटन। अमेरिका ने भारत और पाकिस्तान से तनाव कम करने और संबंध सामान्य बनाने के लिए ‘प्रत्यक्ष वार्ता’ की वकालत की है। जम्मू एवं कश्मीर में बड़े पैमाने पर उपद्रवों के बाद हाल में दोनों मुल्कों के आपसी संबंध खराब हो गए हैं। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के उप प्रवक्ता मार्क सी. टोनर ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा, “हम भारत और पाकिस्तान के उन सभी प्रयासों का समर्थन करते हैं जो क्षेत्र में और अधिक स्थिरता और समृद्धि लाने में सहयोग कर सकते हैं और जिसमें किसी भी स्तर पर भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों के बीच वार्ता शामिल है।”

India Pak Flag

भारत और पाकिस्तान के बीच तनावपूर्ण संबंधों और जम्मू एवं कश्मीर में कथित मानवाधिकार उल्लंघन और इस्लामाबाद द्वारा आतंकवाद के समर्थन को लेकर हाल में दोनों देशों में छिड़े वाक्युद्ध से संबंधित सवाल का जवाब देते हुए टोनर ने यह बात कही। गत सप्ताह पाकिस्तान ने कश्मीर विवाद पर विदेश सचिव स्तरीय वार्ता की पेशकश की थी। भारत ने कश्मीर पर बात की पेशकश ठुकरा दी और कहा कि वह केवल सीमापार आतंकवाद पर वार्ता करने को तैयार है।

टोनर से पूछा गया कि पाकिस्तान ने कई अवसरों पर दोनों देशों के बीच अमेरिकी मध्यस्थता की इच्छा जाहिर की है और क्या वाशिंगटन मध्यस्थता के लिए आगे आएगा? इस पर उन्होंने संकेत दिया कि भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय संबंधों में अमेरिका की कोई भूमिका नहीं है। टोनर ने कहा, “लंबे समय से हमारा मानना रहा है कि संबंध सामान्य बनाने और व्यावहारिक सहयोग से भारत और पाकिस्तान को लाभ होगा। इसलिए हम इसे प्रोत्साहित करेंगे कि तनाव कम करने के लिए दोनों देश निरंतर सीधी वार्ता करें।”