भारत में दोगुना नमक खातें हैं लोग : डब्ल्यूएचओ

कोलकाता। भारत में लोग औसतन विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की प्रतिदिन पांच ग्राम नमक की संस्तुति का दोगुना नमक खाते हैं। बुधवार को एक अध्ययन रिपोर्ट में यह बात कही गई। जॉर्ज इंस्टीट्यूट फॉर ग्लोबल हेल्थ के आंकड़ों की समीक्षा की। इसमें देश भर के 2.27 लाख लोगों आंकड़े थे। उसमें पाया गया कि वे डब्ल्यूएचओ के अधिकतम सीमा पांच ग्राम प्रति व्यक्ति प्रति दिन से बहुत अधिक है।

food_ahar

संस्थान की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि 19 वर्ष से अधिक उम्र के औसत भारतीय प्रतिदिन 10.98 ग्राम नमक खाता है। यह अध्ययन रिपोर्ट जर्नल ऑफ हाइपरटेंशन में प्रकाशित हुआ है। मेटा एनालिसिस अध्ययन में कहा गया है कि दक्षिणी और पूर्वी राज्यों में नमक की खपत अधिक है।

मेटा एनालिसिस मात्रा मापने वाला सांख्यिकीय विश्लेषण है। इससे पता चला कि त्रिपुरा नमक खाने के मामले में प्रतिदिन 14 ग्राम के प्रति व्यक्ति के साथ शीर्ष पर है। शहरी और ग्रामीण इलाके में नमक खाने के मामले में कोई अंतर नहीं है। डब्ल्यूएचओ वर्ष 2025 तक नमक की खाने में 30 प्रतिशत की कटौती करने का प्रयास कर रहा है। अधिक नमक खाने से हृदय रोग और उच्च रक्त चाप का शिकार होने की आशंका रहती है।