सरकार ने गोल्डमैन सैक्स के 7.9 फीसदी जीडीपी अनुमान की प्रशंसा की

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने गुरुवार को वैश्विक निवेश बैंकर गोल्डमैन सैक्स की चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए 7.9 प्रतिशत की वृद्धि दर के अनुमान के लिए प्रशंसा की, जिसमें बेहतर मानसून, प्रमुख सुधारों और विदेशी निवेश प्रवाह के कारण अर्थव्यवस्था की रफ्तार बढ़ने का अनुमान लगाया गया है। शहरी विकास, आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने ट्वीट कर कहा, “खुशी है कि गोल्डमैन सैक्स ने चालू वित्त वर्ष में बेहतर मानसून, प्रमुख सुधारों और विदेशी निवेश प्रवाह के कारण जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) की रफ्तार 7.9 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है।”

M V Naidu

गोल्डमैन सैक्स द्वारा लगाया गया पूर्वानुमान आम सहमति के 7.5 फीसदी के पूर्वानुमान से भी अधिक है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) मई में वित्त वर्ष 2016-17 में भारत की जीडीपी दर 7.5 प्रतिशत रहने के पूवार्नुमान को बरकरार रखा है। मूडीज निवेशक सेवा ने अगस्त में वित्त वर्ष 2016-17 के लिए भारत की वास्तविक जीडीपी दर 7.5 फीसदी के आसपास रहने का अनुमान लगाया था। नायडू ने ट्वीट में कहा, “गोल्डमैन सैक्स कई महत्वपूर्ण नीतिगत परिवर्तन और सुधारों जैस जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) विधेयक पारित होने, दिवालियापन कोड, मुद्रास्फीति को लक्षित कर ढांचे और व्यापार में आसानी के लिए उठाए गए कदमों की सराहना की।”

पिछले वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी दर 7.6 फीसदी थी, जबकि इस साल जनवरी से मार्च की तिमाही में उत्पादन क्षेत्र में तेजी के कारण जीडीपी की दर 7.9 फीसदी तक पहुंच गई। वहीं, वित्त मंत्रालय और नीति आयोग का कहना है कि भारत वर्तमान वित्त वर्ष में 8 फीसदी की विकास दर हासिल कर सकता है। इसका कारण यह है कि पिछले लगातार दो साल कमजोर मॉनसून के बाद इस साल अच्छी बारिश हुई है।