बॉलीवुड हमेशा से ही लोगों के लिए आसान निशाना रहा : सोनाली बेंद्रे

मुंबई। अतीत में गोरेपन की क्रीम के विज्ञापनों में नजर आ चुकीं अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे अब त्वचा के रंग को लेकर पूर्वाग्रह को बढ़ावा देने वाले उत्पादों का प्रचार करने वाली कंपनियों का ब्रांड एंबेसडर बनने की इच्छुक नहीं हैं। गौरतलब है कि ‘कॉमेडी नाइट्स बचाओ’ शो में फिल्म ‘पाच्र्ड’ की अभिनेत्री तनिष्ठा चटर्जी का सांवले रंग के कारण मजाक उड़ाया गया था। इस बारे में सोनली ने कहा कि त्वचा के रंग को लेकर मजाक बनाना सरासर गलत है।

bollywood-has-always-been-an-easy-target-for-people-sonali-bendre

सोनाली ने कहा, मुझे लगता है कि किसी की त्वचा के रंग को लेकर मजाक करना बिल्कुल गलत है। हालांकि, मुझे इस बात की खुशी है कि हर कोई इन बातों के प्रति जागरूक हो रहा है, इसलिए मैं भी हूं। मैंने अपने करियर की शुरुआत में गोरेपन से संबंधित कुछ विज्ञापनों में काम किया है, अगर मुझे आज ऐसी पेशकश होती है, तो मैं गोरेपन वाले विज्ञापन नहीं करूंगी।सोनाली (41) इससे पहले इमामी नैचुरली फेयर का प्रचार कर चुकी हैं। इस बारे में अभिनेत्री ने कहा कि उस समय वह युवा थीं और उन्हें पैसे की जरूरत थी।

पाकिस्तानी कलाकरों पर प्रतिबंध लगाए जाने के मसले पर सोनाली ने कहा कि फिल्म उद्योग हमेशा से ही आसान निशाना रहा है। उन्होंने कहा कि अगर सिर्फ पाकिस्तानी कलाकारों को निशाना न बनाकर सारे व्यापारिक रिश्ते पाकिस्तान के साथ खत्म कर लिए जाए तो वह इस फैसले का सम्मान करेंगी।