विवाह में हो रही है देरी…तो कहीं वजह ये तो नहीं…

नई दिल्ली। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि घर वाले अपने बच्चों की शादी के लिए काफी परेशान रहते है। कभी किसी पंडित के पास तो कभी किसी ज्योतिष से अनेको बार परामर्श भी लेते है लेकिन उनकी समस्या जस की तस रहती है। इसके अलावा आस-पास के लोग लड़की को शादी के ताने भी देने लगती है। लेकिन क्या आपको पता है शादी देर होने में लड़का या फिर लड़की नहीं बल्कि उसकी कुंडली के ग्रहों का अहम रोल होता है जिसकी वजह से शादी में काफी देरी होती है। तो चलिए आज हम आपको बताते है कि ऐसे कौन से ग्रह है जो आपकी शादी को देर से कराने की वजह बनते हैं।

wedding

-कुंडली के 7वें भाव में अगर बुध और शुक्र दोनों हो तो शादी की सिर्फ बात चलती रहती है। लेकिन कहीं भी बात नहीं बन पाती।

-इसके साथ ही ऐसा कहा जाता है कि कुंडली के 7वें भाव में शनि और गुरु हो तो विवाह में देरी होती है।

-अगर चंद्रमा के 7वें भाव में गुरु हो तो शादी में देरी होती है।

-कुंडली के सप्तम भाव में अगर त्रिक भाव का स्वामी हो तो शुभ योग नहीं होने की वजह से विवाह में देरी होती है।

-ऐसा कहा जाता है कि अगर सूर्य, मंगल और बुध नजर लग्न या लग्न के स्वामी पर हो और गुरु 12वें भाव में बैठा हो तो आध्यात्मिकता अधिक रहती है। जिस वजह से विवाह का योग नहीं बन पाता।

-राहु की दशा में शादी हो या फिर राहु 7वें भाव को पीड़ित कर रहा हो तो शादी होकर टूट हो जाती है।

-अगर लड़की की कुंडली में सप्तम भाव शनि से पीड़ित हो तो शादी देर से होती है।