रक्षामंत्री ने राफेल विमान पर राहुल को दिया जवाब, कहा काग्रेस देश को गुमराह कर रही

रक्षामंत्री ने राफेल विमान पर राहुल को दिया जवाब, कहा काग्रेस देश को गुमराह कर रही

राफेल मामले विमान सौदे को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मोदी सरकार पर लगातार जुबानी हमले कर रहै हैं। इसका पलटवार बीजेपी के नेता भी पुरजोर तरीके से कर रहे हैं। इसी क्रम में आज लोकसभा में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने आक्रामक तेवर करते हुए कांग्रेस को तगड़ा जवाब दिया है। निर्माला ने कहा कि कांग्रेस झूठी है और उसने इस मामले पर झूठ बोलकर देश को गुमराह किया है। रक्षा मंत्री निर्मला ने फ्रांस के साथ राफेल करार की प्रक्रिया के बारे में बोलते हुए कहा कि 74 बैठकों के बाद राफेल सौदा किया गया।

 

इसे भी पढ़ेंःराफेल पर आज भी होगी बहस, राहुल गांधी दागेंगे सवाल

आपको बता दें कि हथियारों से लैस और बिना हथियार वाले राफेल विमान की तुलना करना गलत है। गलत जानकारी के नाम पर कांग्रेस ने झूठ बोला है। वह देश को गुमराह कर रही है। बैंक गारंटी के सवाल पर रक्षा मंत्री ने कहा कि किसी भी देश के साथ हुए रक्षा करार में बैंक गांरटी नहीं ली गई थी। वो चाहे अमेरिका के साथ हुआ है फिर फ्रांस के साथ हुआ हो। लोकसभा में राफेल की बहस पर रक्षा मंत्री सीमारमण ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहा कि हमने सुप्रीम कोर्ट को गुमराह नहीं किया। कोर्ट ने भी राफेल डील पर सवाल नहीं उठाए है।

इसे भी पढ़ें-राफेल विमान डील पर डासो का रिलायंस डिफेंसको ऑफसेट पार्टनर बनाना मजबूरी था.. ?

रक्षा मंत्राी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी दाम नहीं बताने पर टिप्पणी की है। कोर्ट का फैसला पूरी प्रक्रिया देखकर ही आया है। रक्षा मंत्री ने साफ किया कि देशहित पर कीमत बताना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि यह बहुत संवेदनशील मामला है। पार्टियों की ओर से कोर्ट में याचिकाएं दायर की गई थीं, ताकि वह इसका राजनीतिक लाभ ले सके। गौरतलब है कि पहले रक्षा मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार हर सवाल का जवाब देने को तैयार है। लेकिन कांग्रेस को रक्षा सौदे की गोपनीयता समझनी चाहिए। पहला राफेल विमान 2019 में यानी करार के 3 वर्ष के अंदर देश को मिल जाएगा।

कांग्रेस यह नहीं कर सकी। उन्होंने संसद में दावा किया कि 2022 तक सभी विमान भारत आ जाएंगे। यूपीए शासनकाल के दौरान 10 साल तक करार की प्रक्रिया तक पूरी नहीं हो पाई जबकि हमने 3 महीने में यह करके दिखाया है। महंगे सौदे के अलावा निर्मला ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस राफेल विमान को देश में नहीं लाना चाहती थी। कांग्रेस बताए किस कारणों से डील की यह प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है।

कांग्रेस पहले मेरे सवालों के जवाब दे क्योंकि वो मेरा जवाब सुनने को तैयार नहीं है।मालूम हो कि राहुल गांधी राफेल सौदे में हिंदुस्तान एयरोनॉटिकल लिमिटेड (एचएएल) को नहीं दिए जाने पर मोदी सरकार को घेर रहे हैं। रक्षा मंत्री ने कांग्रेस से सवाल किया कि अगर इनको वाकई में एचएएल की चिंता थी तो 10 साल के अपने शासनकाल में उसके लिए क्यों कुछ नहीं किया? रक्षा मंत्री ने कहा कि वायुसेना के लगभग एक लाख विमानों के ऑर्डर हमारी सरकार ने एचएएल को दिए हैं।

इसे भी पढ़ें-दसॉल्ट के CEO ने राफेल विमान डील पर राहुल के आरोपों को बताया निराधार

निर्माला सीतारमण ने कहा कि कांग्रेस ने एचएएल की क्षमता बढ़ाने की कोशिश नहीं की है। वह सिर्फ उसे रियायत देती रही। साथा ही रक्षा मंत्री ने लोकसभा में बहस का जवाब देते हुए कहा कि हमारी सरकार ने यूपीए के 18 विमानों की संख्या बढ़ाकर 36 कर दी है। कांग्रेस देश को गुमराह कर रही है कि प्रधानमंत्री मोदी ने विमानों की संख्या घटा दी है। जब भी आपात स्थिति में कुछ खरीदा जाता है तो जल्दी में 36 विमान ही खरीदे जाते हैं। रक्षामंत्री ने कहा कि साल 1982 में कांग्रेस राज में 36 विमानों ही खरीदे गए थे

अखिलेश यादव के बयान पर बोले राज बब्बर,राहुल गांधी लेंगे आखिरी फैसला