सीपी जोशी ने पूछी मोदी-ऋतंभरा की जाति, राहुल ने बताया आदर्शों के खिलाफ

सीपी जोशी ने पूछी मोदी-ऋतंभरा की जाति, राहुल ने बताया आदर्शों के खिलाफ

राजस्थान के नाथद्वारा से कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. सीपी जोशी ने विवादि बयान दिया।कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसका इसको पार्टी के आदर्शों के खिलाफ बताते हुए कहा कि जोशी जी को इस पर सेद प्रकट करने चाहिए।आपको बता दें कि कांग्रस के नेता सीपी जोशी ने पीएम मोदी को लकर जातिगत टिप्पड़ी की थी। जोशी ने एक चुनावी सभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और साध्वी ऋतंभरा की जाति पूछी थी।

 

सीपी जोशी ने पूछी मोदी-ऋतंभरा की जाति, राहुल ने बताया आदर्शों के खिलाफ
सीपी जोशी ने पूछी मोदी-ऋतंभरा की जाति, राहुल ने बताया आदर्शों के खिलाफ

 

जोशी के बयान के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए उनके बयान को आदर्शों के विपरीत बताया है। राहुल ने ट्वीट करते हुए कहा “सीपी जोशी जी का बयान कांग्रेस के आदर्शों के विपरीत है।” उनको इस पर खेद प्रकट करना चाहिए। राहुल ने कहा कि हमारे द्वारा किसी भी समुदाय को ठेस नही पहुंचनी चाहिए।

जोशी ने एक चुनावी सभा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और साध्वी ऋतंभरा की जाति पूछी थी।बुधवार को सीपी जोशी ने नाथद्वारा के सेमा गांव में चुनावी सभा की थी। सभा जोशी ने कहा, “ऋतंभरा और मोदी की जाति क्या है, ये हिंदू धर्म के बारे में कैसे बात करते हैं?

पटेल की एकीकरण योजना को नेहरू का समर्थन प्रप्त था

देश में अगर धर्म के बारे में कोई जानता है तो पंडित जानता है।अजीब देश हो गया है। उमा भारती लोधी समाज की हैं और वो हिंदू धर्म की बात कर रही हैं।” गौरतलब है कि बाद में जोशी ने बयान पर माफी मांगी है। जोशी ने कहा कि सरदार वल्लभभाई पटेल नेहरू की कैबिनेट में थे। जोशी ने कहा कि पटेल जी की भारत के एकीकरण की योजना को नेहरू का समर्थन प्राप्त था।

भाजपा के लोगों ने फैलायी गलतफहमी- जोशी

पटेल ने नेहरू की सहमति के बिना कुछ भी नहीं किया। वर्तमान में भाजपा के लोगों ने गलतफहमी फैला दी है कि दोनों एक साथ नहीं थे।जोशी ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेसी हिंदू नहीं हैं,आखिर किसने इन्हें सर्टिफिकेट जारी करने का अधिकार दिया? क्या उन्होंने एक भी विश्वविद्यालय खोला है? अगर धर्म के बारे में कोई जानता है तो वह सिर्फ उनके पंडित या ब्राह्मण हैं।

महेश कुमार यादव