टीसीएस ने लगाए मिस्त्री पर आरोप, कंपनी को काफी नुकसान पहुंचाया

मुंबई| आईटी क्षेत्र की प्रमुख कंपनी, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसिस लिमिटेड (टीसीएसएल) ने सोमवार को टाटा संस के अपदस्थ अध्यक्ष साइरस मिस्त्री पर निशाना साधा और कहा कि उन्होंने कंपनी और उसके शेयरधारकों को भारी नुकसान पहुंचाया है। कंपनी ने बम्बई स्टॉक एक्सचेंज में दाखिल अपनी रपट में कहा, “मिस्त्री ने टाटा समूह, टीसीएसएल और उसके शेयरधारकों-कर्मचारियों सबको काफी नुकसान पहुंचाया।

cyrus-mistry-broke-the-silence-says-was-only-named-chairman

रपट में कहा गया है, “टाटा संस के कार्यकारी अध्यक्ष के पद पर से हटाए जाने के बाद भी मिस्त्री ने कई झूठे आरोप लगाए, जिससे न सिर्फ टाटा संस और उसके बोर्ड निदेशकों की छवि धूमिल हुई, बल्कि समूचे टाटा समूह को नुकसान पहुंचा, जिसका टीसीएलएस अभिन्न अंग है। कंपनी ने नियामक फाइलिंग में बीएसई को सूचित किया कि असाधारण आमसभा (ईजीएम) का आयोजन 13 दिसंबर को किया जाएगा। इससे पहले टीसीएस ने मिस्त्री की जगह इशात हुसैन को कंपनी निदेशक मंडल का नया अध्यक्ष चुना था।

टाटा संस, टाटा समूह की कंपनियों की होल्डिंग कंपनी है, जिसने 48 वर्षीय मिस्त्री को पिछले महीने अध्यक्ष पद से हटा दिया था और अंतरिम अध्यक्ष के रूप में रतन टाटा को नियुक्त किया था। टाटा संस ने पहले जारी एक बयान में कहा था कि अपदस्थ अध्यक्ष को समूह की सभी कंपनियों के सभी पदों से इस्तीफा दे देना चाहिए। इसके बाद इसके खिलाफ मिस्त्री ने अध्यक्ष बने रहने के लिए इंडियन होटल्स के स्वतंत्र निदेशकों से समर्थन मांगा था।