धनतेरस : लखनऊ में 1200 करोड़ का कारोबार

लखनऊ। धनतेरस पर राजधानी लखनऊ में जमकर खरीदारी हुई और दिनभर में करीब 1200 करोड़ रुपये का कारोबार हुआ। इसमें करीब 700 करोड़ रुपये का कारोबार मोटर बाइक का रहा। गौरतलब है कि पिछले वर्ष की अपेक्षा इस बार धनतेरस के दिन हुए कारोबार में 200 करोड़ रुपये की वृद्धि दर्ज की गई। व्यापारी नेता रामबाबू रस्तोगी ने बताया कि सोने-चांदी का व्यापार सवा सौ करोड़ रुपये पार कर गया। यहां सुबह से ही शहर के बाजार पूरी तरह से सज गए। करीब 15 लाख परिवारों ने खरीदारी की। शहर के व्यापारियों के मुताबिक, सराफा, ऑटोमोबाइल, कपड़ा सहित हर सेक्टर में खरीदारों की अच्छी भीड़ उमड़ी। बर्तन बाजार में इलेक्ट्रॉनिक आइटम की मांग ज्यादा रही, जिसमें ओवन और मॉड्युलर चिमनी सबसे ज्यादा खरीदे गए।

market_1
बर्तन व्यापारी मुकेश ने बताया कि पिछले कुछ वर्षो से तांबे, लोहे और पीतल के बर्तनों की मांग में और कमी आई। बर्तन का कारोबार करीब आठ करोड़ रुपये का व्यापार हुआ है। जानकारों का कहना है कि अब तक की बुकिंग के हिसाब से शहर में दो और चार पहिया को मिलाकर तीन हजार से ज्यादा नई गाड़ियां बिक चुकी हैं। इससे करीब सौ करोड़ रुपये का व्यापार हुआ है। अगले साल चुनाव होने के कारण इस बार एसयूवी गाड़ियों की डिमांड बढ़ी है। एसयूवी का व्यापार करीब 15 करोड़ रुपये का है।

कपड़ा बाजार में भी तेजी देखने को मिली। लखनऊ कपड़ा व्यापार मंडल के अध्यक्ष अशोक मोतियानी ने बताया कि कंपनी वाले अपने कर्मचारियों के लिए ऑर्डर दे चुके हैं। उन्होंने बताया कि रेडीमेड के साथ थान वाले कपड़े की भी काफी मांग है। मोबाइल कंपनियों के 4जी सिम पर ऑफर के कारण पिछले साल की तुलना में मोबाइल का बाजार करीब बीस फीसदी ज्यादा है। कारोबारी काफी खुश हैं। अमीनाबाद, हजरतगंज नरही, डालीगंज, चौक, निशातगंज, अर्जुनगंज सहित तमाम बर्तन बाजार खरीदारों से भरे रहे। धनतेरस पर परिवार संग बाजार आए बच्चों ने जमकर पटाखे खरीदे। इस बार बाजारों पर चीन के उत्पादों की बिक्री ठंडी रही।

सीधे बाजारों से खरीदारी करने के अलावा लोग ऑनलाइन खरीदारी भी कर रहे हैं। राजेंद्र नगर निवासी कोमल, मुकेश, विमल, सुजाता, तनिशी, और दीपक ने बताया कि अलग-अलग पोर्टल पर सामान ऑर्डर किया है। यदि डिलीवरी धनतेरस पर नहीं हुई तो ऑर्डर कैंसिल कर देंगे और बाजार से खरीदारी करेंगे। नगर निगम बाजारों में उमड़ी भीड़ के लिए उपयुक्त व्यवस्था कराने में असफल रहा है। बाजारों में हर जगह दुकानदारों ने अतिक्रमण कर रखा है। वहीं लोगों को शुक्रवार को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। शहर व छावनी के हर बाजार के मोड़ पर भयावह जाम की स्थिति बनी रही।