ससुराल में नहीं मिला शौचालय…तो मायके लौटी दुल्हन

बेतिया। बिहार के पश्चिम चंपारण जिले के खोतहवा गांव में ससुराल में शौचालय नहीं होने के कारण एक विवाहिता ने पंचायत बुलाई और पंचों की अनुमति से अपने पति का घर छोड़ परिजनों के साथ मायके लौट गई।

Dulhan

पश्चिम चंपारण जिले के मधुबनी प्रखंड अंतर्गत खोतहवा ग्राम पंचायत के दहवा गांव निवासी रामदयाल राम के बेटे बब्लू राम की शादी उत्तर प्रदेश के मंशा छापर गांव निवासी शारदा प्रसाद की बेटी अर्चना गौतम से 20 मई, 2016 को हुई थी।

अर्चना सुखी वैवाहिक जीवन का सपना लेकर गत 21 मई को ससुराल आई, लेकिन ससुराल में शौचालय और घर के अंदर चापाकल नहीं होने के कारण वह परेशान रहने लगी। अर्चना ने पति तथा ससुराल वालों से लगातार शौचालय बनाने और घर के अंदर एक चापाकल लगाने की मांग करती रही, लेकिन ससुराल वालों ने उसकी मांगें पूरी नहीं की।

मांगें पूरी नहीं होने पर अर्चना ने अपने मायके के लोगों को यहां बुलाया और इस समस्या पर पंचायत बैठा दी।

बब्लू के दरवाजे पर गुरुवार की शाम पंचायत हुई। खोतहवा ग्राम पंचायत के पूर्व सरपंच ध्रुव पासवान और वर्तमान सरपंच के प्रतिनिधि विनोद गुप्ता के नेतृत्व में पंचों के सामने नवविवाहिता ने अपनी समस्या बताई और शौचालय नहीं होने के कारण ससुराल छोड़ कर वापस मायके जाने की बात कही।

पंचायत में बब्लू ने पत्नी से घर नहीं छोड़ने की गुहार भी लगाई, लेकिन अर्चना अपने निर्णय पर अड़ी रही। पंचायत का आदेश मिलने के बाद अर्चना परिजनों संग मायके चली गई।

सरपंच प्रतिनिधि विनोद ने बताया कि अर्चना ने ससुराल में शौचालय नहीं होने पर पति का घर छोड़ वापस मायके जाने की अर्जी दी थी, जिसे पंचायत ने मंजूरी दे दी। पंचायत ने विवाहिता को उसके माता-पिता के साथ मायके जाने की इजाजत दे दी।

उधर, मधुबनी प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) मोहम्मद अजमल परवेज ने आईएएनएस को बताया कि इस घटना की सूचना मिली है। इस मामले की जांच कराई जा रही है। अगर बब्लू के घर में शौचालय नहीं है तो उसके घर में ग्राम पंचायत योजना के तहत शौचालय का निर्माण करवाया जाएगा तथा पेयजल की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

(आईएएनएस)