जन्मदिन स्पेशल: कुछ इस तरह फिल्मी है अनिल कपूर की लव स्टोरी

जन्मदिन स्पेशल: कुछ इस तरह फिल्मी है अनिल कपूर की लव स्टोरी

मुंबई। ये 60 साल पार कर चुके हैं, लेकिन इन्हें देखकर अब भी सिर्फ एक ही शब्द जुबां पर आता है- झक्कास. समझ तो आप गए ही होंगे कि यहां अनिल कपूर की बात हो रही है। बात इसलिए हो रही है कि क्योंकि आज बॉलीवुड के इस ‘मिस्टर इंडिया’ का जन्मदिन है और वो पूरे 62 साल के हो गए हैं। ऐसे में सबसे पहला सवाल तो यही जेहन में आता है कि उनकी सेहत का राज क्या है और फिर ये भी कि आने वाले दिनों किस अवतार में दिखने वाले हैं।

बता दें कि अनिल कपूर की फिटनेस को लेकर जो हैरानी होती है, वो हैरानी उनकी लवस्टोरी के साथ भी कायम रहती है। उन्होंने एक दिन फोन करके अपनी पत्नी और उस वक्त दोस्त सुनीता से कहा -कल शादी करते हैं और अगले दिन दस लोगों को मौजूदगी में सच में दोनों ने शादी कर ली थी। आखिर कैसे शुरू हुआ था इतने मजबूत प्यार का ये सिलसिला? दरअसल अनिल ने एक इंटरव्यू के दौरान खुद ये सिलसिला शेयर किया था।

उन्होंने बताया, ‘ मेरे एक दोस्त ने सुनीता को मेरा नंबर दिया ताकि वो मुझे प्रैंक कॉल करे. वो पहली बार था जब हमारी बात हुई और मैं उसकी आवाज पर मर मिटा। कुछ हफ्ते बाद हम एक पार्टी में मिले और मेरा उससे इंट्रोडक्शन हुआ। उसमें कुछ ऐसा था, जिसने मुझे अपनी तरफ आकर्षित किया। हमने बातें करनी शुरू कीं और हम दोस्त बन गए। मैंने उसे अपने टूटे दिल के बारे में बताया। उस वक्त मेरा ब्रेकअप हुआ था। हम एक-दूसरे को डेट कर रहे थे, ये बात हमने कभी एक दूसरे से कही नहीं ये एक ऑर्गेनिक डेटिंग थी। जिसमें सवाल-जवाब या गर्लफ्रेंड-बॉयफ्रेंड जैसा कुछ नहीं था।

साथ ही इसके आगे अनिल ने अपनी पत्नी के बारे में बात करते हुए कहा कि ‘वो एक लिबरल परिवार से थीं। उनके पापा बैंकर थे। सुनीता मॉडलिंग कर रही थीं। मैं उस वक्त पूरी तरह बेकार था। मैं चेंबूर में रहता था। वो नेपियनसी रोड पर मैं उनसे मिलने के लिए भी बस से जाता था। वो कहती थीं, नहीं जल्दी से टैक्सी करके आओ और मैं कहता था -अरे मेरे पास पैसे नहीं हैं। और वो कहती थीं जस्ट कम ना आई विल मैनेज

वहीं इस तरह 10 साल दोनों ने एक-दूसरे को डेट किया। कई जगह साथ में ट्रैवल किया। अनिल बताते हैं कि सुनीता ने उनसे एक बात साफ-साफ कह दी थी कि वो कभी किचन में नहीं जाएंगी और खाना नहीं बनाएंगी। इसलिए मुझे शादी करने से पहले ये पता था कि मुझे उन्हें अपनी जिंदगी में लाने के लिए कुछ बनना पड़ेगा। कुछ करना पड़ेगा। मैंने उस दौरान काफी स्ट्रगल किया। हालांकि उनकी तरफ से मुझ पर इस तरह का कोई दबाव नहीं था।

जब मेरी पहली फिल्म ‘मेरी जंग’ आई और पॉपुलर हुई तो इसके बाद मुझे लगा कि अब मैं घर ले सकता हूं, किचन में सामान आ सकता है, हम एक हेल्पर भी रख सकते है मैं शादी कर सकता हूं। मैंने सुनीता को फोन किया और कहा -चलो कल शादी करते हैं और अगले दिन 10 लोगों की मौजूदगी में हमारी शादी हो गई। मैं शादी के तीन दिन बाद ही शूट पर चला गया और सुनीता अकेले हनीमून पर विदेश चली गईं। सच कहूं तो वो मुझे बहुत अच्छी तरह से जानती है। शायद मैं भी खुद को इतना नहीं जानता। वह एक परफेक्ट मां होने के अलावा परफेक्ट पत्नी भी हैं।