फिर से अस्पताल में दिखी बदहाल सेवाएं, शव को टांगकर ले गया परिवार

पटना। ओडीशा के दानामांझी के बाद देश में एक के बाद एक शर्मसार कर देने वाली खबरें सामने आ रही है जिससे न केवल इंसानियत पर बल्कि राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं की पोल खोल कर रख दी है। ताजा मामला बिहार के कटिहार का है जहां पर एम्बुलेंस के न मिलने पर परिवार वालों ने शव को प्लास्टिक के बोरे में बांधकर टांगकर खुद ही ले जाना पड़ा।

question-raises-against-hospital-servicesfamily-took-body-on-his-hand

जिस तरह से कुछ दिन पहले एम्बुलेंस के अभाव में दानामांझी ने अपनी पत्नी के शव को कंधे पर ढोकर 10 किलोमीटर तक का सफर तय किया था ठीक उसी तरह कटिहार में एक परिवार ने अपने बेटे के शव को प्लास्टिक के थैले में बांधकर ले जाना पड़ा। कुछ दिन पहले गंगा नदी में आई बाढ़ के कारण कुर्सेला थाना क्षेत्र के बालुटोला निवासी सिंटू साह नामक व्यक्ति की नदी में डूबने से मौत हो गई थी। लेकिन काफी मश्क्कत करने के बाद चिंटू का शव परिवारवालों ने खोज निकाला।

इसके बाद स्थानीय थाने ने 25 सितंबर को शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा लेकिन अस्पताल प्रशासन की लापरवाही के चलते 24 घंटे बीत जाने के बाद भी शव का पोस्टमार्टम नहीं हुआ और आखिर में शव को पोस्टमार्टम के लिए भागलपुर भेजा गया। लेकिन अस्पताल प्रशासन ने शव को ले जाने के लिए कोई भी वाहन मुहैया नहीं कराया जिसके वजह से परिवारवालों ने शव को प्लास्टिक के बैग में डालकर ले जाना पड़ा। वहीं जब इस पूरे मामले पर सिविल सर्जन से पूछा गया तो उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया लेकिन बाद में खुद को फंसता देख परिवारवालों को एम्बुलेंस मुहैया करा दी।