दुष्कर्म के आरोपी विधायक लालू से मिले, जद (यू) ने कसा तंज

पटना| बिहार के नालंदा जिले में एक किशोरी से दुष्कर्म के आरोपी और पटना उच्च न्यायालय से जमानत पाए राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के विधायक राजबल्लभ यादव गुरुवार को पार्टी के अध्यक्ष लालू प्रसाद से उनके पटना स्थित आवास पर मिले और दो घंटे तक बातचीत की। इस पर सियासत तेज हो गई। नीतीश की पार्टी ने इसे ‘गणेश परिक्रमा’ करार दिया। विपक्षी भाजपा ने भी कटाक्ष किया। आरोपी से मुलाकात को लेकर जहां विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सत्ताधारी महागठबंधन पर जमकर निशाना साधा, वहीं महागठबंधन में शामिल जनता दल (युनाइटेड) ने इसे ‘गण्ेाश परिक्रमा’ करार दिया।

rajballabh-yadav

नवादा के विधायक राजबल्लभ यादव दोपहर में लालू प्रसाद के आवास पर पहुंचे और सीधे अंदर चले गए। सूत्रों के अनुसार, दोनों नेताओं के बीच करीब दो घंटे बातचीत हुई। एक नाबालिग लड़की से दुष्कर्म करने के मामले में जेल में बंद राजबल्लभ पटना उच्च न्यायालय से जमानत मिलने के बाद रविवार को जेल से रिहा हुए हैं। जेल से बाहर आने के बाद राज्य सरकार ने उनकी जमानत के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर की है, जिस पर सात अक्टूबर को सुनवाई होनी है। लालू के एक पुत्र तेजस्वी प्रसाद यादव राज्य के उपमुख्यमंत्री हैं और दूसरे पुत्र तेजप्रताप राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हैं।

लालू प्रसाद से मुलाकात करने के बाद बाहर आए राजबल्लभ ने पत्रकारों से कहा, “मैं लालू प्रसाद को दुर्गापूजा की बधाई देने गया था। मैंने लालू से कोई मदद नहीं मांगी है, मुझ पर लगे सभी आरोप बेबुनियाद हैं। सरकार के सर्वोच्च न्यायालय चले जाने पर उन्होंने स्पष्ट कहा, “सरकार का एक सिस्टम होता है। नीतीश कुमार खुद न्यायालय नहीं गए हैं। मुझे सरकार से कोई शिकायत नहीं है।उन्होंने न्यायपालिका पर भरोसा जताते हुए कहा कि उन्हें गलत तरीके से फंसाया गया है। उन्होंने यहां तक कहा कि वह नीतीश कुमार से भी मिल सकते हैं।

इधर, जद (यू) के प्रदेश प्रवक्ता और विधान पार्षद नीरज कुमार ने विधायक राजबल्लभ और लालू की मुलाकात को ‘गणेश परिक्रमा’ बताते हुए कहा, “राजनीतिक गंठबंधन से बड़ा होता है नैतिक मूल्य। शीर्षासन, गणेश परिक्रमा और दंडवत से कोई दागी नहीं बचेगा।उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार का यूएसपी ही कानून का राज है। कानून के राज में कोई अपराधी बचा नहीं रह सकता।इधर, इस मुलाकात के बाद भाजपा के प्रवक्ता विनोद नारायण झा ने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अब सरकार में सबसे बड़े घटक दल के अध्यक्ष से दुष्कर्म का आरोपी मिल रहा है, तो समझा जा सकता है कि बिहार में किस तरह सरकार चल रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि अपराधियों द्वारा अपराधियों को मदद देने के लिए सरकार चलाई जा रही है।

राजबल्लभ को पटना उच्च न्यायालय से जमानत मिलने पर विपक्ष ने सरकार पर मदद करने का सीधा आरोप लगाया है। भाजपा नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने आरोप लगाया है कि लालू और नीतीश की मदद के कारण ही राजद विधायक को न्यायालय से जमानत मिली है। मोदी ने राजबल्लभ को लालू यादव का ‘फाइनेंसर’ तक करार दिया है। उल्लेखनीय है कि नालंदा जिले के रहुई थाने के सुल्तानपुर की 15 वर्षीय नाबालिग लड़की ने नालंदा के महिला थाने में नौ फरवरी को दुष्कर्म की शिकायत दर्ज कराई थी।

दर्ज प्राथमिकी में नाबालिग लड़की ने आरोप लगाया है कि छह फरवरी को एक महिला सुलेखा देवी उसे एक जन्मदिन की पार्टी में ले जाने के बहाने गिरियक ले गई और उसे विधायक राजबल्लभ के हवाले कर दिया। इसके बाद विधायक ने उसके साथ दुष्कर्म किया। थाने में मामला दर्ज होने के बाद से विधायक राजबल्लभ यादव घर से फरार हो गया था। करीब एक महीना बाद विधायक ने बिहारशरीफ की एक अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया था। राजद हालांकि राजबल्लभ को पार्टी से निलंबित कर चुका है।