भारत बंद का बिहार में प्रभाव, आवागमन पर बुरा असर

पटना। केंद्र सरकार की नोटबंदी के खिलाफ कई राजनीतिक पार्टियों के कार्यकर्ता सोमवार को सड़क पर उतर आए और विभिन्न क्षेत्रों में सड़कों को अवरुद्घ कर दिया। कई रेलवे स्टेश्नों पर ट्रेनें रोकी गईं, जिससे आवागमन प्रभवित हुआ है। वामदलों के भारत बंद के आह्वान पर बंद समर्थक राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में सुबह से ही सड़कों पर उतर आए और बंद को सफल बनाने के लिए सड़क जाम कर दिया। नोटबंदी के खिलाफ वामपंथियों ने बंद को लेकर सोमवार सुबह दरभंगा स्टेशन पर बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस को रोक दिया। पार्टी कार्यकर्ताओं ने नोटबंदी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। जहानाबाद और तरेगना रेलवे स्टेश्न पर भी बंद समर्थकों ने ट्रेनें रोकी। बाद में हालांकि पुलिस ने बंद समर्थकों को हटा दिया।

bihar

नोटबंदी के खिलाफ खगड़िया में वाम दलों के कार्यकर्ता शहर के राजेंद्र चौक पर रोड जाम कर प्रदर्शन कर रहे हैं। कटिहार और सासाराम शहर में अभी तक भारत बंद पूरी तरह असरहीन है। राजधानी पटना में कांग्रेस के कार्यकर्ता अलग-अलग जत्थों में आक्रोश मार्च निकाल रहे हैं। मधेपुरा, अरवल, भोजपुर, सहित कई जिलों में बंद समर्थकों द्वारा सड़क पर जमकर प्रदर्शन किया जा रहा है। बंद के कारण पटना-औरंगाबाद और नवादा-पटना मार्ग पर वाहनों का परिचालन रुक गया है। बंद को लेकर पटना सहित राज्य के तमाम क्षेत्रों में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। जनता दल (युनाइटेड) ने नोटबंदी के खिलाफ किसी भी आंदोलन और बंद से पहले ही खुद को अलग कर लिया है।