नीतीश के अखिलेश को बोलवचन

नालंदा। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अखिलेश के ऊपर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें परिवारवाद की छाया से बाहर निकला होगा। यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव के पूर्व लगातार नीतीश कुमार यूपी में दौरे कर जदयू के लिए रैलियां कर अखिलेश सरकार पर गाहेबगाहे निशाना साधते रहते हैं।

nitish

बिहार के नालंदा जिले के राजगीर में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में अपने पहले भाषण में अखिलेश सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि नो रिस्क, नो गेम की पारी से बाहर निकला होगा आप युवा हैं। अखिलेश को नसीहत देते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि परिवार की छाया से बाहर निकलने का जोखिम लें और चुनावों में जीत हासिल करें।

नीतीश की अखिलेश को सलाह:-
नालंदा में जदयू के महाअधिवेसन के बात बतौर अध्यक्ष अपने पहले सम्बोधन में बोलते हुए नीतीश कुमार की निगाहें यूपी के विधान सभा चुनाव पर टिकी रहीं । अखिलेश सरकार को नसीहत देते हुए नीतीश ने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को राज्य में शराबबंदी लागू करके जोखिम उठाना चाहिए जिससे उन्हें परिवार की छाया से बाहर निकलने में और आगामी राज्य विधानसभा चुनाव जीतने में मदद मिलेगी।उन्होंने कहा कि अब अखिलेश को परिवार की छाया से बाहर निकलना चाहिए। यूपी में अगले साल विधान सभा चुनाव को लेकर खासा ही संजीदा अंदाज में दिखते हुए नीतीश कुमार पिछले कुछ महीनों से शराबबंदी के संदेश के साथ 8 राज्यों के दौरे पर थे। इस दौरान उन्होंने उत्तर प्रदेश में भी रैली कर एक तीर से दो निशाने साधने की कोशिश कर प्रदेश में आगामी विधान सभा चुनाव में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की चाह को एक बार फिर जिन्दा किया है।

अखिलेश के बहाने मुलायम पर निशाना:-
बिहार के सीएम नीतीश कुमार अभी तक बिहार चुनाव में सपा के गठबंधन तोड़ने के दर्द से उबर नहीं पाये हैं। अखिलेश के जरिए उन्होंने अपने साथी मुलायम पर जमकर निशाना साधा। उन्होने अखिलेश को सलाह देते हुए कहा कि परिवार को दरकिनार कर आप जोखिम उठाने के लिए तैयार हो जाएं हम पूरे दमखम के साथ आप के लिए खड़े हैं। सपा सुप्रीमो को आड़े हाथों लेते हुए नीतीश ने कहा कि हमने पुनर्गठित जनता परिवार में मुलायम को अध्यक्ष पद की पेशकश की थी और संसद में अपने दल के प्रमुख नेता का प्रस्ताव भी दिया था पर वे नहीं माने और परिवार से अलग हो गये, बिहार चुनावों के दौरान मुलायम ने जो भूमिका निभाई थी , उससे लगाता है उन्होने समाजवादी पार्टी के लिए आफत खड़ी कर ली है।